Hindi Page 1

 

हमारे वेदों के अनुसार घर,दुकान और कार्यस्थल पर नित्य हवन यज्ञ करने से हमारे जीवन में समृद्धि आती  है …… दरअसल जब हम हवन करते हुए वेद मन्त्रों का पाठ करते हैं तो हवन का धुआं वातावरण शुद्ध व ऊर्जा से भरपूर कर देता है …….और वेद मन्त्रों के उच्चारण से निकली ध्वनि तरंगें वातावरण को जिटिव व सात्विक कर देती हैं .     और ऐसे वातावरण में रहने व कार्य करने वाले व्यक्ति में शक्ति का संचार होता है…….तथा उसके द्वारा किया हर कार्य सफल होता है, सात्विक विचार आते हैं जिसके कारण आपसी मेल मिलाप वाला माहोल बन जाता है. और जहाँ सब  मिल जुल कर कार्य  करते हैं  वहां बरकत होती है.

 

आप रोज हवन कर सकें और आपका समय भी बच जाये इसके लिये ….”जय संतोषी माँ सेल्स कार्पोरेशन ” द्वारा एक ऐसा हवनकुंड का अविष्कार किया  है जो इलेक्ट्रिसिटी से कार्ये करता है . आप यदि वेद मंत्रों का उच्चारण ठीक से नहीं कर पते हैं तो भी चिन्ता न करें क्यूंकि इस हवनकुंड में वेदों के शुद्ध उच्चारण में  मन्त्र रिकार्डेड हैं .

आपको तो  केवल एक स्विच ओन करना है , और समिधा की आहुति देनी है …हवन  शुरू हो जायेगा ….. और …… वेद मन्त्रों का पाठ ….. आपके घर में गूंजने लगेगा आपको अपना कार्ये करते हुए . ….”सुगन्धित वातावरण का आनंद उठाते हुए ” वेद मन्त्रों के धवनि तरंगों  के लाभ उठायें ” ….. है  न  ………आम   के  आम ……गुठलिओं …..के …..दाम एक और फायदा  आपको पंडित जी कहते हैं के महान्मृत्युंजये के सवा लाख  जाप /  या  गायत्री महामंत्र  के जाप करवाने होंगे ……..तो इसका  ख़र्चा कोई भी पंडित जी कम से  कम २५०००/-  से लेकर ८०,०००/- रुपया  लेंगे

जबकि गायत्री इलेक्ट्रॉनिक …… हवनकुंड …… में यह पाठ शुद्ध उच्चारण से मुफत में करवाये जा सकते हैं …..बस आपको केवल उस परमेश्वर का संकल्प करके हवनकुंड में *गायत्री* महामंत्र या  *महामृत्युंजय * महांमंत्र का जाप रिमोट द्वारा सेट करके चला देना है   और  यह शुद्ध मन्त्रों का जाप शुरू कर देगा ———-कोई  खर्चा  नहीं ———–तो देखा आपने कितने फायदे का है यह दिव्य गायत्री * हवनकुंड———————-

 

आज के भागते दौड़ते जमाने में तनाव इस लिये नहीं है की हमारे पास कोई कमी है बल्कि इसलिए  है के मेरे साथ वाला कहीं मुझ से आगे न निकल जाये . हम साथी बनने के बजाए प्रतियोगी बन गए हैं .

यही है हमारे तनाव का कारण —— यदि हम भाई चारा बना कर रखें  तो  आधे तनाव तो उसी समय दूर हो जायेंगे ……… भाइयो अब भाईचारा बनाना बहुत मुश्किल है पर असंभव नहीं …… हमें सभी को इसमें सहयोग करना होगा ……. पहला कदम हमें अपनी ईगो छोड़ कर हमें  ही उठाना होगा ……  मेरे देश के निवासियों आपस में बैर  नहीँ प्रेम से आगे बढ़ो …… अपनी शक्ति …..एक दूसरे को गिराने  में नहीं …….सहारा देने में लगाओ …..फिर देखना …..सभी और ….अच्छे और अछाई…..नज़र आने लगेगी…….पहल करनी होगी …..सभी  को अपने स्थान से ….यह हमें  अपने बच्चों के लिए करना है……ताकि हम उनहें एक अच्छा भविष्य दे सकें…धन्यवाद.

 

 

 

 

 

Hindi Page 2